अफगानिस्तान: सुरक्षाबलों ने 46 तालिबानी आतंकी मार गिराए, 37 घायल

दुनिया

अफगानिस्तान के सुरक्षाबलों ने उत्तरी फरयाब प्रांत में 46 तालिबानी आतंकियों को मार गिराया और 37 को घायल कर दिया। अधिकारियों का कहना है कि इस इलाके से तालिबानी आतंकियों को पूरी तरह से खत्म किया जा रहा है।

हाइलाइट्स:

  • अफगानिस्तान सुरक्षाबलों ने मार गिराए 46 तालिबानी आतंकी
  • उत्तरी फरयाब में 37 घायल, जारी है ऐंटी-तालिबान ऑपरेशन
  • अफगान नियंत्रित फरयाब से किया जा रहा तालिबान का खात्मा
  • अफगानिस्तान सरकार और तालिबान के बीच जल्द होनी है वार्ता

काबुल
अफगानिस्तान के सुरक्षाबलों ने 46 तालिबानी आतंकियों को मार गिराया और 37 को घायल कर दिया। उत्तरी फरयाब प्रांत में यह कार्रवाई की गई। कई तालिबान यूनिट्स ने कैसर जिले में हमला किया था लेकिन सेना ने उन्हें जवाब दिया। अफगान नैशनल आर्मी की 209वीं कॉर्प्स के प्रवक्ता मोहम्मद हनीफ रेजाई ने यह जानकारी शनिवार को दी है।

हनीफ ने बताया कि जिला अफगान बलों के कंट्रोल में है। उन्होंने यह भी बताया कि सैन्य ऑपरेशन जारी है और इलाके से सभी तालिबानी आतंकियों को खत्म किया जा रहा है। वहीं, प्रांतीय सरकार ने कहा है कि तालिबान के कई हाई-रैंक कमांडर ऑपरेशन के दौरान घायल हुए हैं।

बातचीत का दूसरा हिस्सा
दूसरी ओर, तालिबान के पदाधिकारियों ने कहा कि उसके वरिष्ठ सदस्यों का एक प्रतिनिधिमंडल शनिवार को कतर लौट आया है जिससे अफगान सरकार के साथ बातचीत का रास्ता एक बार फिर खुल गया है। बातचीत के इस खाड़ी देश में होने की उम्मीद है। पदाधिकारियों ने नाम न जाहिर करने की शर्त पर यह जानकारी दी क्योंकि वे मीडिया से बातचीत के लिए अधिकृत नहीं हैं। यह बातचीत अमेरिका और तालिबान के बीच दोहा में इस साल फरवरी में हुए शांति समझौते का दूसरा और अहम हिस्सा है।

वार्ता शुरू होने में बाधा
अफगान सरकार के कब्जे वाले 5000 कैदियों और तालिबान के कब्जे वाले 1000 कैदियों की अदला-बदली को लेकर सहमति नहीं बनने के कारण वार्ता के शुरू होने में बाधा आ रही है। अगस्त के अंत में तालिबान के राजनीतिक कार्यालय का प्रमुख और फरवरी में अमेरिका के साथ बनी सहमति का मुख्य वार्ताकार मुल्ला अब्दुल गनी बरादर पाकिस्तान आया था। पाकिस्तानी अधिकारियों के साथ उसकी मुलाकात के बारे में ज्यादा खुलासा नहीं किया गया लेकिन यह माना जा रहा है कि उस पर वार्ता शुरू करने के लिए दबाव डाला गया।

Leave a Reply