मंदिर अनलॉक: राजस्थान में आज से भक्तों के लिए खुलेंगे भगवान के द्वार,

राज्य
  • थर्मल स्क्रीनिंग और मास्क बिना धार्मिक स्थल में प्रवेश की मनाही
  • रात 9 बजे शयन आरती के बाद मंदिर के कपाट बंद किए जाएंगे

राजस्थान में 171 दिन बाद सोमवार से धार्मिक स्थल खुलने जा रहे हैं। कोरोना संक्रमण के कारण इन धार्मिक स्थलों को करीब छह माह पहले बंद कर दिया गया था। पुष्कर का विश्व विख्यात ब्रह्मा मंदिर और अजमेर दरगाह के द्वार भी खोल दिए जाएंगे। बता दें कि कोरोना संक्रमण के कारण राज्य सरकार ने 20 मार्च से सभी मंदिर बंद करने का ऐलान किया था।

अब थर्मल स्क्रीनिंग के बाद ही श्रद्धालुओं को प्रवेश दिया जाएगा। सोमवार सुबह 5.30 बजे ब्रह्म मुहूर्त में होने वाली मंगला आरती के साथ ब्रह्मा मंदिर के कपाट खोलेे जाएंगे। मंदिर पूर्व की भांति नियमित सुबह 5.30 बजे मंगला आरती के साथ खुलेगा तथा दोपहर 1.30 से 3 बजे तक विश्राम के दौरान बंद रहेगा।

इसके बाद 3 से रात 9 बजे तक मंदिर दर्शन के लिए खुला रहेगा। रात 9 बजे शयन आरती के बाद मंदिर के कपाट बंद किए जाएंगे। मंदिर दर्शन के समय में बदलाव नहीं किया गया है। दर्शन के लिए श्रद्धालुओं को छह-छह फीट की दूरी में कतारबद्ध खड़ा होना पड़ेगा। मंदिर के प्रवेश मार्ग से गर्भगृह के सामने निर्धारित दर्शन स्थल तक की सीढ़ियाें पर 6-6 फीट की दूरी में गोले बनाए गए हैं। बिना मास्क अथवा फेस कवर के मंदिर में प्रवेश नहीं हाेगा।

ये मंदिर अभी बंद रहेंगे

  • खाटूश्यामजी, मेंहदीपुर बालाजी 30 सितंबर व सालासर में 1 नवंबर तक बंद रहेंगे। जीणमाता मंदिर 15 सितंबर से पहले नहीं खुलेगा।
  • जाेधपुर और बाड़मेर में 30 सितंबर तक नहीं खुलेंगे धार्मिक स्थल। स्थानीय स्तर पर निर्णय।
  • बीकानेर में नगर सेठ लक्ष्मीनाथ व नागणेचीजी माता 20 सितंबर तक दर्शन नहीं देंगे, देशनोक में करणीमाता मंदिर भी नहीं खुलेगा।
  • अलवर में पांडुपाेल मंदिर काे खाेलने काे लेकर सोमवार को फैसला लिया जाएगा।
  • पाली: रणकपुर जैन व परशुराम महादेव बंद।

Leave a Reply